Thursday, 28 November 2019

साफ़ा(पगड़ी) बांधना एक अद्भुत कला है। How to Tie a Turban Part 8

साफ़ा(पगड़ी) बांधना एक अद्भुत कला है।


हजारों वर्षों से, मानव ने कला क्षेत्र में महारत हासिल की है। दुनिया में जहां भी कोई इंसान है, उसने अपने सिर को ढँकने का कोई न कोई तरीका ढूंढ लिया है। बाद में यह एक फैशन बन गया। उन्हें आगे चलकर धर्म का रूप मिला। फिर धर्म के अनुसार पगड़ी आई और तैयार की गई। सभी के अलग-अलग तरीके हैं। लेकिन आज भी, अगर किसी प्रसंग में पगड़ी नहीं है, तो प्रसंग के महत्व को कम कर देता है। वैसे पगड़ी और प्रसंग का अपना महत्व है। आज हम केवल दूल्हे की पगड़ी के बारे में बात करेंगे। दूल्हा बिना पगड़ी के बाराती की तरह दिखेगा। दूल्हा पगड़ी में राजा लगता है, शायद इसलिए उसे "दूल्हे राजा" कहते है। वैसे, पगड़ी बांधना बहुत बड़ी कला है। हर कोई पगड़ी बांधना सीखना चाहता है। आज हम आपको दिखाएंगे कि दूल्हे को पगड़ी कैसे बांधें?
How to tie the grooms turban|दूल्हा अपनी पगड़ी कैसे बांधता है| part 8




भारत के स्वदेशी सोशल मीडिया से पैसे की बारिश होगी

भारत के स्वदेशी सोशल मीडिया से पैसे की बारिश होगी आज कोरोना युग में लॉक डाउन की स्थिति में हर कोई घर में बैठा है। किसी को भोजन नहीं मिलता और...